इलाहाबाद के बारे में

इलाहाबाद उत्तर प्रदेश का एक बहुत ही प्रसिद्ध जिला है जिसे प्रयाग के नाम से भी जाना जाता है। इलाहाबाद में ही तीन पवित्र नदियों गंगा, यमुन एवं सरस्वती का संगम भी होता है, जो हिन्दू पुराणों के अनुसार बहुत ही पवित्र माना जाता है। प्रदेश में इस शहर की जनसंख्य काफी अधिक है पर फिर भी प्रदेश की सबसे तीव्र गती से विकासशील शहरों में ये तीसरे नंबर पर है। क्योंकि अभी तक भारत के 15 में से सात प्रधानमंत्री इसी शहर से हुए हैं इसलिए इसे ‘भारत के प्रधानमंत्री की राजधानी’ भी कहा जाने लगा है। इसके अतिरक्त यहां पर इलाहाबाद उच्च न्यायलय भी स्थित है जहां से पूरे उत्तर प्रदेश के सभी संबंधित न्यायिक कार्य होते हैं। वर्ष 1869 में इस न्यायलय की स्थापना की गई थी जो कि भारत के किसी प्रदेश का प्रथम उच्च न्यायलय था। इसके अतिरिक्त इलाहाबाद को उसकी शिक्षा प्रणाली, संस्कृति एवं पर्यटन के लिए भी विश्व भर में जाना जाता है।

इलाहाबाद एक विशिष्ट शिक्षा प्रणाली को अपनाता है जिसे बोर्ड शिक्षा पर भी लागू किया जाता है। इलाहाबाद में दो सबसे बड़े शिक्षा निकायों का मुख्यायलय है जिनमें उच्च शिक्षा विभाग, उत्तर प्रदेश एवं हाई स्कूल एवं इंटरमीडिएट शिक्षा बोर्ड उत्तर प्रदेश सम्मिलित हैं। इन दो शिक्षा प्रणालियों के अतिरिक्त इलाहाबाद में एक केंद्रीय विश्वविद्दालय, तीन मानद विश्वविद्दालय एवं एक स्वतंत्र विश्वविद्दालय भी शामिल हैं।

इसते अतिरिक्त इलाहाबाद को उसकी संस्कृति एवं पर्यटन योग्यता के लिए भी जाना जाता है। निसंदेह इलाहाबाद को उसके साहित्यिक एवं कलात्मक विरासत और कारीगरी के लिए तो जाना ही जाता है, लेकिन इसे "उत्तर प्रदेश की साहित्यिक राजधानी" की तरह भी जाना जाता है। वर्ष 1900 में भारत की प्रथम हिन्दी मासिक पत्रिका ‘सरस्वती’ चिंतामणी घोष द्वारा शुरु की गई थी। 1903-1920 तक बहुत से आधुनिक हिन्दी साहित्य के दिग्गज इसके संपादकों भी की सूची में शामिल हैं। इलाहाबाद में ही वर्ष 1930 में आनन्द भवन का भी निर्माण हुआ था जो बाद में नहेरू परिवार का नया घर बन गया था। 19वीं एवं 20वीं शताब्दी के दौरान लेखक महादेवी वर्मा, सुमित्रानंदन पंत, सूर्यकान्त त्रिपाठी निराला एवं हरिवंश राय बच्चन द्वारा हिन्दी साहित्य का प्रारूप बदल दिया गया, इन सभी लेखकों का जन्मस्थल इलाहाबाद ही रहा है। अपनी लेखकी द्वारा इन लेखकों ने हिन्दी साहित्य में अपना बहुत बड़ा योगदान दिया है, जिसके लिए दुनिया सदा इनकी आभारी रहेगी। हिन्दी साहित्य के अतिरिक्त इलाहाबाद में फारसी एवं उर्दू साहित्य का भी अध्य्यन किया गया है। अकबर इलाहाबादी एक प्रसिद्ध उर्द कवी थें, इनके अलावा नूर नरवी, तेग इलाहाबादी, शबनम नकवी एवं रशीद इलाहाबादी भी इलाहाबाद में ही पैदा हुए थें।

इलाहाबाद में साहित्य एवं अन्य खूबियों के अतिरिक्त अपने पर्यटन एवं त्यौहारों के लिए भी विश्व भर में प्रसिद्ध है। निसंदेह विश्व भर में प्रसिद्ध कुंभ मेला भी इसी शहर के देन है, जो पर्यटकों का एक बहुत बड़ा आकर्षण का केंद्र है। कुंभ मेले के अतिरिक्त इलाहाबाद में और भी बहुत से पर्यटन स्थल जैसे एलफ्रेड पार्क, द विक्टोरिया एण्ड थॉर्नहिल मेन मेमोरियल, मिंटो पर्क, इलाहाबाद किला, अशोक स्तंभ एवं खुसरो बाग भी इलाहाबाद की देन हैं। इसिलिए इलाहाबाद को उसके उत्तम साहित्य, कला एवं संस्कृति की अद्भुत मिश्रण के लिए जाना जाता है।