माननीय अध्यक्ष

img
  • श्री प्रभात कुमार मित्तल (आईएएस)
  • माननीय अध्यक्ष
संदेश

उ0प्र0 उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग अधिनियम, 1980 की धारा 3 के अधीन स्थापित उच्चतर शिक्षा सेवा आयोग एक निगमित निकाए है। इसमें राज्य सरकार द्धारा नियुक्त एक अध्यक्ष तथा कम से कम दो परन्तु अधिक से अधिक छः अन्य सदस्य होते है। इसके अतिरिक्त आयोग का एक सचिव होता है जो राज्य सरकार द्वारा पांच वर्ष से अनधिक अवधि के लिए नियुक्त किया जाता है। आयोग के प्रमुख कार्य हैं -

  1. अनुदानित महाविघालयो में शिक्षको एवं प्राचार्यो की नियुक्ति प्रकिया से सम्बन्धित र्माग-दर्शन सिद्वान्त तैयार करना,
  2. शिक्षको/प्राचार्य की नियुक्ति हेतु पराक्षांए संचालित करना, साक्षात्कार लेना तथा अभ्ययर्थियो का चयन करना,
  3. शिक्षको/प्राचार्य की नियुक्ति हेतु शिक्षा निदेशक, उच्च शिक्षा उत्तर प्रदेश को अभ्यर्थियो की सूची भेजना तथा,
  4. आयोग को सौंपी गयी निधी का प्रबन्धक।

आयोग की स्थापना के पीछे अन्तर्निहित लक्ष्य था कि उच्च शिक्षा के क्षेत्र्ा मे गुणवत्ता बनाये रखने के लिए योग्य शिक्षकों/प्राचार्यो का चयन करना। परन्तु विगत कुछ वर्षो मेे स्थितियां ऐसी बनी कि आयोग निष्प्रभावी हो गया। अब हमारा लक्ष्य होगा कि आयोग की कार्य प्रणाली को सक्षम एंव प्रभारी बनाते हुए यथाशीघ्र महाविद्यालयो में रिक्ते पडे शिक्षको/प्राचार्यो के पदों को भरे जाने हेतु योग्य अभ्यर्थियो का चयन करना जिससे अनुदानित महाविद्यालयो में शिक्षा की गुणवत्ता बनी रहे।